Thursday, 3 July 2014

अंतरिक्ष में महंगाई और सैटेलाइट की नजर

जयजीत अकलेचा/ Jayjeet Aklecha

दो दिन पहले इसरो ने पांच विदेशी सैटेलाइट्स अंतरिक्ष में क्या उतारे, सरकार में बैठे एक अफसर के दिमाग में एक इनाेवेटिव आइडिया घूमने लगा। उन्होंने महंगाई पर नजर रखने के लिए सरकार पर एक सैटेलाइट छोडऩे का आइडिया पटक मारा। हमें समझ में नहीं आया कि आखिर महंगाई का सैटेलाइट से क्या संबंध हो सकता है! ये अफसर हमारे मित्र हैं, इसलिए यही समझने हम उनके पास पहुंच गए।
'सालों पहले महंगाई बहुत हुआ तो तीसरे-चौथे माले तक पहुंचती थी। सरकार की जब इच्छा होती, वह हाथ पकड़कर नीचे उतार देती। लेकिन अब तो यह धरती की कक्षा तक पहुंच गई है। अंतरिक्ष में धूमकेतु की तरह घूम रही है और अब उसे पकड़कर नीचे लाना तो दूर, उस पर नजर तक रखना मुश्किल हुआ जा रहा है। सैटेलाइट ही यह काम कर सकता है।' उन्होंने हमें समझाया।
'लेकिन फायदा क्या होगा?' हमने पूछा।
'देखो, महंगाई अंतरिक्ष में जा रही है। यह तो किसी के रोकने से रुकने वाली नहीं। लेकिन सरकार कम से कम उस पर नजर तो रख सकती है। इसके लिए वह इसरो की मदद ले सकती है। सैटेलाइट की आंख से भला कौन बच सका है। सरकार अपने कुछ कारिंदों को बिठा देगी। वे हर समय स्क्रीन पर नजरें गढ़ाए रखेंगे। अब वह चांद पर चली जाए, तब भी सरकार की कड़ी नजर हर समय उस पर रहेगी।'
'लेकिन इसमें तो बहुत खर्च आ जाएगा?'
'देखो, इस समय हमारी प्राथमिकता महंगाई है, इसलिए कितना भी खर्चा आए, हमें इसकी परवाह नहीं करनी चाहिए।'
'लेकिन कोई और रास्ता भी तो निकल सकता है, थोड़ा सस्ता! क्या दूरबीन से काम नहीं चल सकता?'
पहले तो हमारे ये अफसर मित्र इस मिडिलक्लास टाइप आइडिया पर मुस्कुराए। फिर बोले, 'चल तो सकता है, लेकिन एक दिक्कत हो सकती है', कुछ दार्शनिक अंदाज में उन्होंने कहा। समस्याओं के समय बड़े सरकारी अफसर दार्शनिक हो जाते हैं। यही उन्हें शोभा भी देता है। 'दिक्कत यह कि सरकार के पास आते ही दूरबीनें अपना स्वाभिमान ताक पर रख देती हैं। बस सरकार की ही जी-हुजूरी में लग जाती हैं। अब वे वह नहीं दिखाती जो दिख रहा है, बल्कि वह दिखाती है जो सरकार देखना चाहती है।' मित्र अफसर अपने अनुभव के आधार पर बोले। दूरबीन बनने का उनका सालों का अनुभव रहा है।
'ओह, यह तो गंभीर बात है। वैसे हमारे पास एक और आइडिया है।' उन्होंने जिज्ञासावश हमारी ओर देखा।
'सबसे अच्छा आइडिया तो यह है कि सरकार आंखें ही बंद कर लें। इससे न उसे सैटेलाइट छोडऩा पड़ेगा, न दूरबीनों की सेवाएं लेनी होगी।'
'वाह! क्या आइडिया है।' सुनकर ही वे गदगद हो गए। वैसे भी सरकार को और भी कई जरूरी काम हैं। महंगाई का क्या! वे इस आइडिए को सरकार के साथ शेअर करने अपने दफ्तर की ओर चल दिए।
कार्टून : गौतम चक्रवर्ती

No comments:

Post a Comment